1 किलोवाट सोलर प्लांट लगाने का तरीका। 1 kilowatt Solar Plant kaise lagaye

सोलर प्लांट कई आकार के होते हैं जैसे 300 वाट, 500 वाट, 1 किलोवॉट या 3 किलोवॉट या उससे भी ज्यादा।लेकिन एक आम घर के लिए एक किलोवाट का सोलर प्लांट काफी होता है इसलिए आज हम बताने वाले हैं कि आप एक किलो वाट का सोलर प्लांट किस तरह लगा सकते हैं। इसको लगाना बेहद आसान है । एक किलो वाट के सोलर प्लांट के लिए जिन चीज़ों की जरूरत होगी उनकीं लिस्ट हम नीचे दे रहे हैं।
1. सोलर पैनल एक किलो वाट यानि 250 वाट 24 वोल्ट के चार सोलर पैनल ।
2. दो सोलर बैट्री 150 Ah
3. एक सोलर इन्वर्टर 24 वोल्ट । अगर सोलर इन्वर्टर ना मिले तो कोई भी आम साइन वेव इन्वर्टर ले ले जो 24 वोल्ट पर चलता हो ।। सोलर और आम इन्वर्टर में सिर्फ इतना फ़र्क़ है कि सोलर इन्वर्टर में सोलर चार्ज कंट्रोलर अंदर लगा होता है और आम इन्वर्टर में बाहर से लगाना पढता है।
4. सोलर चार्ज कंट्रोलर 30 एम्पेयर 24 वोल्ट।
5. सोलर पैनल स्टैंड।
6. तार 4 sqmm ।
अब सबसे पहले चारो 250 वाट के सोलर पैनल को आपस में जोड़ ले यानि हर पैनल के नेगेटिव वायर(काले तारों) को एक साथ आपस में जोड़े और हर पैनल के पॉजिटिव वायर(लाल तारों )को एक साथ आपस में जोड़े। इस तरह सभी पैनल एक साथ जुड़ कर 1000 वाट और 24 वोल्ट के हो जायँगे।
सब नेगेटिव वायर और सब पॉजिटिव वायर के जोड़ने के बाद आखिर में एक पॉजिटिव वायर मिलेगा और एक नेगेटिव वायर। अब इन दोनों वायर को मल्टीमीटर में लगा कर इनके वोल्ट चेक करे। अगर 36 वोल्ट दिखा रहा है तो तार सही जुड़े है।
अब इन दोनों लाल और काले तार को सोलर चार्ज कंट्रोलर के – में काले को और + में लाल को जोड़ दे ।
सोलर चार्ज कंट्रोलर में वायर लगाने के लिए तीन टर्मिनल होते हैं । एक  सोलर से आने वाले वायर को लगाने के लिए होता है दूसरा बैट्री में जाने वाले तारों के लिए होता है और तीसरा डीसी लोड के लिए होता है। चार्ज कंट्रोलर पर इनके बारे में लिखा होता है तो ध्यान से सही जगह सही तार  लगाये तभी प्लांट काम करेगा।
सोलर पैनल के तार सोलर चार्ज कंट्रोलर में जोड़ने के बाद सोलर चार्ज कंट्रोलर से बैट्री में तार जोड़े। और फिर बैट्री से इन्वर्टर में तार जोड़े। तार जोड़ने से पहले दोनों 150 AH की बैट्री को 300 AH 24 वाल्ट बना ले।इसके लिए बैट्री के नेगेटिव टर्मिनल को पॉजिटिव टर्मिनल से जोड़ दे । इस तरह बैट्री 300 ah और 24 वोल्ट की हो जायेगी। अब जो बैटरी के एक पॉजिटिव और नेगेटिव यानि काला और लाल तार है उसको सोलर चार्ज कंट्रोलर से आने वाले लाल और काले तार से जोड़ दे। और बैट्री के उन्ही टर्मिनल पर इन्वर्टर से आने वाले लाल और काले तार को जोड़े।
बस अब आपका सोलर प्लांट तैयार है। इन्वर्टर को अपनी सप्लाई और लोड से कनेक्ट करे और सौर ऊर्जा का भरपूर इस्तिमाल करे।
अगर आपके मन में कोई सवाल है तो नीचे कमेंट में पूछे।

Comments

Popular posts from this blog

एक किलोवाट सोलर प्लांट लगाने का खर्च 2018

भारत मे सोलर पैनल की कीमत 2018 | Solar plate ki kimat

टाटा सोलर पैनल प्राइस | Tata solar panel ki kimat